➪ कोरोना पर अफवाहों से बचें

रविवार की रात तक कोरोना वायरस से दुनियाभर में 361 लोगों की मौत हो चुकी है तथा 17,205 मामलों की पुष्टि हुई है. जाहिर है कि चीन से फैली यह महामारी अब फिलीपींस और अन्य एशियाई देशों में प्रवेश कर चुकी है. भारत में भी इसके कुछ मामले हैं. लेकिन, इसमें घबराने की कोई जरूरत नहीं है. सभी संबद्ध सूचनाओं पर निगरानी रखी जा रही है और उसके आधार पर एहतियात बरती जा रही है. कई साल पहले सॉर्स नामक वायरस फैला था. उसे हम कोरोना वायरस का संबंधी कह सकते हैं. हमारे देश में उसे लेकर काफी दहशत फैली थी. ये वायरस आम तौर पर फेफड़ों में संक्रमण करते हैं.

➥ लोगों को सतर्क रहने की जरूरत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय इस मामले में पूरी तरह से सचेत है और हालत पर नजर रख रहा है. सबसे अहम बात कि देश के सात बड़े हवाई अड्डों पर संदिग्ध रोगी की पहचान के लिए थर्मल सेंसर मशीन की व्यवस्था की गयी है. इस मशीन से बहुत सहज तरीके से रोगी को चिह्नित किया जा सकता है. कोरोना वायरस को लेकर वैज्ञानिकों की चिंता है कि अभी तक इस वायरस के रोग के लक्षण बहुत स्पष्ट नहीं हैं. इसके एंटी वायरल दवा बनाने की प्रक्रिया अभी जारी है. हालांकि, कंपनी दावा कर रही है कि वह दवा बनाने में कामयाब हो चुकी है, जिसका अभी मानव परीक्षण होना बाकी है. लेकिन, अगर किसी महामारी में दवा का मानव परीक्षण नहीं हुआ है, तो उसे हम प्रचलन में नहीं ला सकते. उस दृष्टि से चिकित्सा वैज्ञानिक और चिकित्सकों में एक घबराहट की स्थिति जरूर है. अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआइएच) के वैज्ञानिकों ने दावा किया कि कोरोना वायरस का टीका बना लिया गया है. लेकिन, अभी तक यह दावा जमीन पर नहीं है. दूसरी जरूरी चीज है कि कोरोना वायरस को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने महामारी घोषित कर दिया है.
महामारी की घोषणा के बाद से अनुमान लगाया जा रहा है कि इससे पूरी दुनिया में करीब पांच लाख करोड़ रुपये का नुकसान हो सकता है. यहां जानना जरूरी है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए हम क्या करें. चूंकि, यह संक्रमण एक-दूसरे के संपर्क में आने से फैलता है. अगर कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित है, तो दूसरे व्यक्ति में छींक के माध्यम से यह संक्रमण होने का खतरा रहता है.खांसी या बलगम के माध्यम से भी यह बीमारी फैल सकती है. लोगों को मुंह पर मास्क रखना चाहिए. विशेषकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा किसी इलाके में संदिग्ध कोरोना वायरस से संबंधित एडवायजरी जारी होने के बाद सतर्क रहने की जरूरत है. अन्यथा अफरातफरी मचाने की जरूरत नहीं है. अपुष्ट जानकारी के आधार पर अफरातफरी नहीं होनी चाहिए. आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर सही जानकारी ली जा सकती है. भारत में अभी स्थिति बिल्कुल सामान्य है. ये तथ्य डॉ. एके अरुण के द्वारा इस वेबसाइट माध्यम से आपको सूचना दिया गया है.