अपनी लिखावट से जानें अपना व्यक्तित्व

लिखावट से व्यक्ति के व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ जाना जा सकता है. इसके लिए थोड़ी सी जानकारी की जरूरत होती है.

अपनी लिखावट से जानें अपना व्यक्तित्व


अक्षरों की साइज

छोटी है, तो आपकी एकाग्रता बहुत अच्छी है, जीवन के प्रति नजरिया संकीर्ण और अपने उद्देश्य के प्रति आपका ध्येय निश्चित है. बड़ी है, तो जीवन के प्रति आपका नजरिया बहुत खुला है और आप आसानी से बोर
नहीं होते.

 अक्षरों पर दबाव

लिखते वक्त अक्षरों पर अधिक दबाव डालते हैं तो आप बहुत भावुक इंसान हैं और अक्षरों पर कम दबाव डालते हैं तो आप अपनी भावनाएं अभिव्यक्त नहीं करते बल्कि स्वयं में दबाए रखते हैं.
 अक्षरों के बीच अंतर

कम अंतर रखते हैं तो आप समय के प्रबंधन में निपुण नहीं हैं. बराबर रखते हैं, तो आपका जीवन सुलझा हुआ है और चीजों का प्रबंधन अच्छे से करने के साथ ही मानसिक रूप से भी सुलझे हुए हैं. अंतर अधिक है, तो आप आजादी पसंद इंसान हैं.

 लिखावट का झुकाव

बायीं ओर झुकी है, तो आप अंतर्मुखी हैं और आजाद रहना पसंद करते हैं. दायीं ओर है तो, आपको लोगों से मिलना-जुलना बहुत पसंद है लेकिन अपने मूड के हिसाब से. सीधी है, तो आप अपनी भावनाओं को अच्छे से नियंत्रित करते हैं और उन्हें बहुत कम जाहिर करते हैं.

 वाक्य की दिशा

आपके वाक्य ऊपर की दिशा में जाते हैं, तो आप आशावादी हैं और हर वक्त अच्छे मूड में रहने का प्रयास करते हैं, नीचे की दिशा में जाते हैं तो इससे आपके तनावग्रस्त और थके होने का पता चलता है. लहरदार बनावट है, तो इससे पता चलता है कि आपका दिमाग स्थिर नहीं है.
 अक्षरों को जोड़ना

आप अक्षरों को जुड़े हुए बनाते हैं, तो आप तार्किक, व्यवस्थित हैं और सोच समझ कर निर्णय लेते हैं. अक्षरों को अलग-अलग बनाते हैं तो आप बुद्धिमान हैं और सहज ज्ञान से पूर्ण हैं.

 'i' कैसे लिखते हैं

चुलबुले आकार में बनाते हैं, तो आप चंचल और रचनात्मक हैं. साथ ही आपको भीड़ से अलग दिखना पसंद है. अव्यवस्थित बनावट है, तो आपको अव्यवस्था पसंद नहीं है और आप हर छोटी बात पर नजर
रखते हैं.

 't' की लाइन

ऊपर बनाते हैं, तो आपका आत्मसम्मान बहुत ऊंचा है और आप दूसरों की तुलना में बहुत बड़ा सोचते हैं. नीचे बनाते हैं, तो आप में आत्मसम्मान की कमी है और आप अपनी काबिलियत के हिसाब से खुद को बहुत कम आंकते हैं.



Post a Comment

0 Comments