बच्चे की पसंद के अनुसार पहनें कपड़े - इससे क्या फायदा होगा आइए जानते है


बच्चे की पसंद के अनुसार पहनें  कपड़े
इससे क्या फायदा होगा आइए जानते है

यदि आपको बनाना है बच्चे के सामने अच्छा इम्प्रेशन, तो जब भी पैरेंट्स-टीचर्स मीटिंग में जाएं, बच्चों की पसंद के अनुसार ही जाएं. आजकल के बच्चों का देखने, सोचने और समझने का नजरिया बदल गया है जिसकी वजह से यदि पैरेंट्स अच्छी तरह से ड्रेस्डअप न हों या फिर उनकी भाषा में अंग्रेजी शामिल न हो तो बच्चों को उन्हें मीटिंग में ले जाना अपनी तौहीन लगती है.

➥ बच्चे भले ही दूसरे पैरेंट्स से बात न करते हों लेकिन उनके बात करने के ढंग को बहुत बारीकी से देखते हैं और अपने माता-पिता से यही उम्मीद करते हैं कि वो भी वैसे ही बात करें.

.बच्चे पैरेंट्स टीचर मीटिंग से पहले अक्सर अपनी मम्मी से बोलते हैं कि उनकी मम्मी कैसे कपड़े पहने. जैसे कि आजकल के बच्चों को अपनी मम्मी पर वेस्टर्न ड्रेसेस ज्यादा पसंद आती हैं. यहां तक कि मम्मी का हेयर स्टाइल भी बच्चे नोटिस करते हैं और कोई पसंदीदा स्टाइल बनाने को बोलते हैं.

➥ इसके अलावा वो मम्मी-पापा से ये भी बोलते हैं कि वो टीचर से उनके बारे में ज्यादा बात करने की जगह उनकी बातें सुनें और हो सके तो इंग्लिश में ही बात करें क्योंकि हिंदी में बात करने से उनका इम्प्रेशन खराब पड़ता है.

Post a Comment

0 Comments