अगर आप में ये कला है तो ज़िंदगी में आप बहुत आगे जाओगे

➤ अगर आप में ये कला है तो ज़िंदगी में आप बहुत आगे जाओगे

संवाद सिर्फ बातचीत नहीं, बल्कि दो लोगों के बीच का संतलन है. इसमें एक वक्ता तो दूसरा श्रोता होता है, लेकिन अगर दोनों में एक भी नदारद रहे तो संवाद अधूरा रहता है. अगर आप सिर्फ बात कहने के आदी हैं, तो सुनने की कला भी सीखनी होगी. कुछ लोग बहुत ज्यादा बात करते हैं और उन्हें इस बात से बिल्कुल फर्क नहीं पड़ता है कि सामने वाला उनकी बातों में दिलचस्पी ले रहा है । या नहीं. लेकिन ज्यादा बोलने की बजाय ज्यादा सुनना फायदेमंद होता है. कई बार हमें अपनी कही बातों पर पछताना पड़ता है, जो कि बिना सोचे-समझे बात करने का नतीजा होता है. कम बात करना और अधिक सुनना, दूसरों के विचारों से सहमत होने जितना मुश्किल होता है. हो सकता है कि आपको किसी के विचार या बातें सही न लगें, लेकिन सुनते वक्त आपको अपने विचारों को किनारे कर सामने वालेकी बात पर से ध्यान देना चाहिए. जब आप इस प्रकार से किसी की बात को सुनते हैं, तो आप बातों के दुसरे पहलुओं को देख पाते हैं, जिससे आप दूसरों की भावनाओं को आसानी से समझ सकते हैं. यदि आप इस आदत को अपनाना चाहते हैं, तो पहले आपको कम बोलना सीखना होगा.

 ज्ञान बढ़ता है
जो ज्यादा बात करते हैं, वे अपनी जानकारी से अधिक कह जाते हैं, जबकि जो लोग सुनने में दिलचस्पी लेते हैं, वे सभी की बातों को ध्यान से सुनते हैं. इस कारण उन्हें सभी से कुछ न कुछ सीखने का मौका मिलता है. सुनने वाले को, यहां दो बातों का फायदा होता है. पहला, उसे नई जानकारी मिलती है और दूसरा, में वह मिली जानकारी का अच्छी तरह से उपयोग कर सकता है.

➤ पछतावा नहीं रहता
ने जो लोग ज्यादा बात करते हैं, उन्हें पता ही नहीं होता है कि वे क्या कहने जा रहे हैं ने और अक्सर बातों-बातों में वे अपनी निजी जिंदगी के बारे में बता जाते हैं. इसीलिए १ कहा जाता है कि कम बोलें, लेकिन सोच-विचार कर बोलें.

 गंभीरता से लिया जाता है
अधिकतर चुप रहने की वजह से हो सकता है कि लोग आपको घमंडी समझें पर जो आपके करीबी होंगे या वाकई आपको जान लेंगे उनकी ये गलतफहमी जल्द दूर हो जाएगी. इसके साथ ही जो लोग जरूरत के समय ही बोलते हैं, वे हर बात को गंभीरता से समझते हैं. हमें तभी बोलना चाहिए जब हमें किसी चीज की ठोस जानकारी हो. कम बोलने से आपकी बात में गंभीरता होती है, जिससे सभी आपकी बात को सुनने में दिलचस्पी लेते हैं.

Post a Comment

0 Comments